परमाणु संरचना और इलेक्ट्रान प्रोटोन न्यूट्रॉन के खोजकर्ता

एक परमाणु किसी भी साधारण से पदार्थ की सबसे छोटी घटक इकाई (unit) है जिसमे एक रासायनिक तत्व के गुण होते हैं।

परमाणु के केन्द्र में नाभिक (न्यूक्लिअस) होता है जिसका घनत्व बहुत अधिक होता है। नाभिक के चारो ओर ऋणात्मक आवेश वाले एलेक्ट्रान चक्कर लगाते रहते हैं जिसको एलेक्ट्रान घन (एलेक्ट्रान क्लाउड) कहते हैं। नाभिक,धनात्मक आवेश वाले प्रोटानों एवं अनावेशित (न्यूट्रल) न्यूट्रानों से बना होता है।

जब किसी परमाणु में एलेक्ट्रानों की संख्या उसके नाभिक में स्थित प्रोटानों की संख्या के समान होती है तब परमाणु वैद्युकीय दृष्टि से अनावेशित होता है; अन्यथा परमाणु धनावेशित या ऋणावेशित ऑयन के रूप में होता है।

नाभिक में प्रोटॉन की संख्या किसी रासायनिक तत्व को परिभाषित करता है: जैसे सभी तांबा के परमाणु में 29 प्रोटॉन होते हैं। न्यूट्रॉन की संख्या तत्व के समस्थानिक को परिभाषित करता है। इलेक्ट्रॉनों की संख्या एक परमाणु के चुंबकीय गुण को प्रभावित करता है।

इलेक्ट्रान प्रोटोन न्यूट्रॉन के खोजकर्ता को इस ट्रिक के द्वारा आसानी से याद किया जा सकता है: discovery of electron in hindi discovery of proton by goldstein inventor electron proton neutron gk tricks

परमाणु discovery of electron in hindi discovery of proton by goldstein inventor electron proton neutron gk tricks

इलेक्ट्रॉन पर एक ऋणात्मक विद्युत आवेश होता है। इलेक्ट्रान की खोज 19वीं सदी से अंत में हुई, जिसका अधिकतर श्रेय जे. जे. थॉमसन को जाता हैं। इसका आकार बहुत छोटा होता है और द्रव्यमान 9.11 × 10−31 कि. ग्रा. है। इन कणों में इलेक्ट्रॉन सबसे हल्का है। inventor electron proton neutron

Read also:   वर्ग Zero के तत्व

प्रोटॉन पर धनात्मक आवेश होता है। एक परमाणु में प्रोटॉनों की संख्या परमाणु संख्या कहलाता है। प्रोटॉन की खोज अर्नेस्ट रदरफोर्ड द्वारा 1919 में किया गया था। इसका द्रव्यमान 1.6726 × 10−27 कि.ग्रा. है जो इलेक्ट्रान के द्रव्यमान के 1,836 गुना है। discovery of proton by goldstein

न्यूट्रॉन पर कोई विद्युत आवेश नहीं होता है। न्यूट्रॉन की खोज अंग्रेज भौतिकविज्ञानी जेम्स चैडविक ने 1932 में की थी। इसका द्रव्यमान 1.6929 × 10−27 कि.ग्रा. है जो इलेक्ट्रान के द्रव्यमान के 1,839 गुना है। न्यूट्रॉन और प्रोटॉन का द्रव्यमान लगभग एक सामान होता है।

एक परमाणु के इलेक्ट्रॉन्स इस विद्युत चुम्बकीय बल द्वारा एक परमाणु के नाभिक में प्रोटॉन की ओर आकर्षित होता है। नाभिक में प्रोटॉन और न्यूट्रॉन एक अलग बल, यानि परमाणु बल के द्वारा एक दूसरे को आकर्षित करते है, जोकि विद्युत चुम्बकीय बल जिसमे धनात्मक आवेशित प्रोटॉन एक दूसरे से पीछे हट रहे हैं, की तुलना में आम तौर पर शक्तिशाली है। discovery of electron in hindi

Read also:   हवा से हल्की गैसों के नाम

ये भी पढ़ें: लम्बे समय तक GK याद रखने के लिए Gk Tricks (General Knowledge Tricks)

Comments