बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर में अंतर

(बेकिंग पाउडर breaking soda in hindi baking soda meaning in hindi baking soda ka rasayanik sutra)

breaking soda in hindi baking soda meaning in hindi बेकिंग पाउडर baking soda ka rasayanik sutra meaning of baking soda

अक्सर आप बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर को लेकर कन्फ़्यूज़ हो जाते होंगे क्योंकि इनके नाम एक जैसे हैं, लिहाज़ा आप इन्हें एक ही चीज़ मान लेते होंगे।

तो आइए हम आपको विस्तार से बताते हैं कि इन दोनो चीजों में क्या फ़र्क़ है।

बेकिंग सोडा क्या होता है ? baking soda meaning in hindi

  • यह एक लीवेनिंग एजेंट (leavening agent) है जिसे अक्सर खाने में इस्तेमाल किया जाता है, ख़ासकर बेकरी (जैसे केक, मफ़िन, कूकीज़ बनाने) में। लीवेनिंग एजेंट (leavening agent) वो होते हैं जो किसी मिश्रण को फुला देते हैं।
  • यह दिखने में सफ़ेद ठोस, क्रिस्टलीय, पाउडर के रूप में होता है।
  • स्वाद में यह थोड़ा नमक़ीन होता है।
  • बेकिंग सोडा का रासायनिक सूत्र : NaHCO3
  • यह एक लवण (salt) है जो सोडियम(Na+) और बाई कोर्बोनेट(HCO3) से मिलकर बना है।
  • बेकिंग सोडा जब बेकरी (जैसे केक, मफ़िन, कूकीज़) बनाते समय मिलाया जाता है तो अम्ल और द्रव के सम्पर्क में आने पर वह एक्टिवेट हो जाता है और कार्बन डाइआक्साइडड पैदा होती है। यानी यह एक ऐसा पदार्थ है जो कार्बन डाइआक्साइडड वाले बारीक बुलबुले या झाग बनाता है, जिससे मिश्रण नरम हो जाता है. इसे सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट (Sodium Hydrogen Carbonate) भी कहा जाता है. इसी कारण बेकरी की चीजें फूलती हैं और सॉफ़्ट हो जाती हैं।

बेकिंग पाउडर क्या होता है ?

  • बेकिंग पाउडर भी एक लीवेनिंग एजेंट है, लेकिन यह सोडियम बाइकार्बोनेट, अन्य बाइकार्बोनेट और एसिड लवण का मिश्रण होता है.
  • यह चिकना और मुलायम मैदा जैसे होता है।
  • रासायनिक रूप से इसमें भी सोडियम बाइकार्बोनेट होता है लेकिन, इसमें अन्य बाइकार्बोनेट और एसिड लवण होता है.
  • बेकिंग पाउडर (बेकिंग सोडा के उलट) एक पूर्ण लेवनिंग एजेंट है, जिसका अर्थ है कि इसमें बेस (सोडियम बाइकार्बोनेट) और एसिड दोनों शामिल हैं. ये बेकिंग एसिड टार्ट्रेट (tartrate), फॉस्फेट (phosphate) और सोडियम एल्यूमीनियम सल्फेट (sodium aluminium sulfate) अकेले या मिलाकर उपयोग किए जाते हैं.
  • चूंकि बेकिंग पाउडर में एसिड ड्राई होती है इसलिए बेकिंग सोडा तब तक रिएक्ट नहीं करता है जब तक उसमें कोई तरल या लिक्विड ना मिलाया जाए.
  • बेकिंग पाउडर में कॉर्न स्टार्च भी मिलाया जाता है ताकि सामान्य अवस्था इसमें मौजूद अम्ल और क्षार मिल कर एक्टिवेट न होने पायें।बेकिंग पाउडर को अगर किसी द्रव में मिलाया जाए तो इसमें मौजूद अम्ल सोडियम बाईकार्बोनेट से रिएक्ट करता है, और कार्बन डाइआक्साइडड  पैदा करता है।

बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर में अंतर

ये दोनो ही लेवनिंग (Leavening) एजेंट हैं और दोनो का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में होता है।

बेकिंग सोडाबेकिंग पाउडर
दिखने में दरदरा पाउडर जैसादिखने में चिकना और मुलायम मैदे जैसा
रासायनिक रूप से इसमें केवल सोडियम बाइकार्बोनेट होतारासायनिक रूप से इसमें सोडियम बाइकार्बोनेट के साथ साथ अम्लीय लवण (acid salt) भी होता
इसमें मोनो कैल्सीयम फ़ॉस्फ़ेट (Monocalcium Phosphate) नहीं होता।इसमें मोनो कैल्सीयम फ़ॉस्फ़ेट (Monocalcium Phosphate) होता है जो नमी और गर्मी के सम्पर्क में आने परसोडियम बाइकार्बोनेट से रिएक्ट करता है।
एसिड के साथ तुरंत रिएक्ट करता हैएसिड के संपर्क में आने पर तुरंतरिएक्ट नहीं करता
लेवनिंग (Leavening) प्रोसेस छोटा, लिहाज़ा मिश्रण तुलनात्मक रूप से कम फूलता है।दूसरे एसिड की मदद से लेवनिंग (Leavening) प्रोसेस को बढ़ाया जा सकता हैलिहाज़ा मिश्रण तुलनात्मक रूप से ज़्यादा फूलता है।
उन व्यंजनों में बेकिंग सोडा का उपयोग करना चाहिए जिनमें छाछ, नींबू का रस या सिरका जैसे अम्लीय तत्व होते हैं;ऐसे व्यंजनों में बेकिंग पाउडर का उपयोग करना चाहिए जिनमें अम्लीय तत्व न हों जैसे बिस्कुट, कॉर्न ब्रेड, या पेनकेक्स.
इसका इस्तेमाल नान, भटूरा जैसी चीजों को बनाने के लिएइसका इस्तेमाल केक और बेकरी (जिन्हें तला नहीं जाता बल्कि बेक किया जाता है) में होता है

बेकिंग सोडा कैसे काम करता है?

  • बेकिंग सोडा में मौजूद बाइकार्बोनेट (HCO3–), जब पानी से मिलता है तो बाइकार्बोनेट घुल जाता है और ये नमी और खट्टे पदार्थों (यानी एसिड) से रिएक्ट करता है और कार्बन डाइआक्साइड गैस निकालता है.
  • इस कारण से मिश्रण में बबल्स इकट्ठे हो जाते हैं और खाना सॉफ्ट और स्पंजी हो जाता है. इसलिए बेकिंग सोडा को रिएक्ट करने के लिए दही, छाछ जैसे खट्टे पदार्थों की जरूरत होती है. 

बेकिंग पाउडर कैसे काम करता है?

  • बेकिंग पाउडर बेकिंग सोडा और एसिड से बनता है.
  • इसका बेस बेकिंग सोडा की तुलना में ज्यादा एसिडिक होता है इसलिए खाने में मिलाने से ये खुद काम करना शुरू कर देता है.
  • नमी के संपर्क में आने पर ये खुद रिएक्ट करना शुरू कर देते हैं और जब इसे ओवन में रखते हैं तो गर्मी के कारण इसमें पहले से बने बबल और बड़े हो जाते हैं जिसके कारण खाना या रेसेपी और ज्यादा स्पंजी बनती है.

[bg_collapse view=”link” color=”#000000″ icon=”arrow” expand_text=”सम्बंधित प्रश्न और उत्तर” collapse_text=”हटायें” ]

बेकिंग सोडा क्या होता है ? (baking soda kya hota hai)(meaning of baking soda)

  • यह एक लीवेनिंग एजेंट (leavening agent) है जिसे अक्सर खाने में इस्तेमाल किया जाता है, ख़ासकर बेकरी (जैसे केक, मफ़िन, कूकीज़ बनाने) में। लीवेनिंग एजेंट (leavening agent) वो होते हैं जो किसी मिश्रण को फुला देते हैं।
  • बेकिंग सोडा का रासायनिक सूत्र (baking soda ka rasayanik naam)(baking soda ka rasayanik sutra)

    बेकिंग सोडा का सूत्र : NaHCO3

  • यह एक लवण (salt) है जो सोडियम(Na+) और बाई कोर्बोनेट(HCO3) से मिलकर बना है।
  • बेकिंग पाउडर क्या होता है ? | बेकिंग पाउडर हिंदी मीनिंग

  • बेकिंग पाउडर एक लीवेनिंग एजेंट है, यह सोडियम बाइकार्बोनेट, अन्य बाइकार्बोनेट और एसिड लवण का मिश्रण होता है.
  • breaking soda in hindi baking soda meaning in hindi breaking soda in hindi baking soda meaning in hindi baking soda ka rasayanik sutra

    [/bg_collapse]

    उम्मीद है कि आप, अब इन दोनो चीजों में अंतर समझ चुके होंगे। क्या आपको पता है कि बेकिंग सोडा और बेकिंग पाउडर को व्यंजनों के अलावा अन्य तरीक़ों से इस्तेमाल किया जाता है ? कॉमेंट कर के बतायें 🙂

    यह भी पढ़ें: केमिस्ट्री से सम्बंधित सभी स्टडी मटीरीयल

    प्रातिक्रिया दे

    Written by GKTricksIndia